Essay On Milawat Khorixas

मिलावट – एक महारोग

मिलावट से अभिप्राय है कि प्राकृतिक तत्वों व पदार्थो में बाहरी , बनावटी या अन्य प्रकार के तत्त्वों व् पदार्थो का मिश्रण कर देना | यह घृणित कार्य स्वार्थी स्वभाव वाले व्यापारी वर्ग से सम्बन्धित लोगो का है जो अधिक से –अधिक मुनाफा कमा कर रातो- रात धनवान बन जाना चाहते है | ऐसे कार्यो का दुष्परिणाम कितना घातक व कितना जान – लेवा तक हो सकता है , इसका अनुमान नही लगाया जा सकता है |

देखा जाता है कि आज शायद ही बाजार में कोई चीज शुद्ध मिलती हो | पहले तो हम केवल दूध पानी व शुद्ध घी में चबी या वनस्पति घी ही मिलाने की बात सुना करते थे , परन्तु आज तो प्रत्येक वस्तु मिलावट वाली हो गई है | आजकल स्वार्थी लोग सीमेन्ट में रख, चाय में रगा हुआ लकड़ी का बुरादा , जीरे में घोड़े की लीद, खाने के रंगो में लाल- पिली मिट्टी मिलाने लगे है | यहाँ तक कि अब तो सरसों व अन्य खाद्द तेलों में दुसरे अखाद्द तेल मिलाए जाने लगे है जिन्हें खाकर हजारो आदमी अन्धे , अपंग और रोगी बन चुके है | दूध और कुल्फी आदि में स्याही चूस मसलकर मिला दिया जाता है |

बीमारों को दी जाने वाली दवाइयों के नाम पर उन्हें चाक के टुकड़े , मैदे की गोलियां तथा मिट्टी भरे कैप्सूल दिए जा रहे है | इन्जैकशनो में दवाइयों की जगह पानी भरा जा रहा है | मिलावटी मदिरा और मृत्संजीवनी के नाम पर तेजाब – वारनिश पीने से आज देश में प्रतिदिन हजारो मौते हो जाती है | आज देश में मिलावट के अनेक रूप प्रचलित है , जैसे बढिया वस्तु में घटिया वस्तु मिलाकर उसका मूल्य बढिया व्स्तुवाला प्राप्त करना, गेहूँ – चावल आदि अनाजो मै मिट्टी या कंकड़- पत्थर मिलाना | डिब्बाबन्द वस्तुओ पर ऊपर तो ‘एक्मार्क’ या आई.एस.आई. का मार्क लगा रहता है जबकि अन्दर सडा हुआ पदार्थ निकलता है |

अब प्रश्न यह है कि इस प्रकार के अमानवीय , मानव के प्राणों के मूल्य पर , तथा उसके स्वास्थ्य की कीमत पर होने वाली मिलावट जैसे महारोग का क्या इलाज है ? कई अन्य देशो में तो इसकी सजा फाँसी तक निर्धारित की गई है | परन्तु अहिसवादी , धर्म – परायण और नैतिकता की कोई प्रतिकार या इलाज तब तक संभव नही है जब तक आत्मविश्वास , संकल्पशक्ति और वास्तविक जन-हित की भावना से ओत-प्रोत राजनेता इस देश की धरती पर उत्पत्र नही होते |

February 5, 2017evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), LanguagesNo CommentHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

- Меган все пыталась его кому-нибудь сплавить. - Она хотела его продать. - Не волнуйся, приятель, ей это не удалось.

0 thoughts on “Essay On Milawat Khorixas

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *